काव्य-काँकरियाँ

ebook

cover image of काव्य-काँकरियाँ

Sign up to save your library

With an OverDrive account, you can save your favorite libraries for at-a-glance information about availability. Find out more about OverDrive accounts.

   Not today

Search for a digital library with this title

Title found at these libraries:

Loading...

कंकड़ फैंकना एक सहज मानवी प्रवृत्ति है। कभी यूंही खेल खेल में अपनों पर या दूसरों पर। बचपन में पोखर-तालावों में, मेंढ़कों, पक्षियों, कुत्ते-बिल्लियों पर, पेड़ों पर फलों को तोड़ने हेतु ढेले फैंकना किसे नहीं सुहाया। बालिकाओं के आदि-खेल 'कंकड़' गुटके और बालकों के रंग-बिरंगे कंचों का खेल कौन नहीं जानता।

Available to buy

काव्य-काँकरियाँ
New here? Learn how to read digital books for free